Home » Aah Woh Pyaari Salib

Aah Woh Pyaari Salib

Aah Woh Pyaari Salib Lyrics in Hindi

Verse 1

आह वह प्यारी सलीब,
मुझको दिख पढ़ती है,
एक पहाड़ी जो खड़ी थी,
कि मसीह-ए-मसलूब ने नदामत उठा,
गुनाहगारों की ख़ातिर जान दी।।

Chorus

पस न छोड़ूँगा प्यारी सलीब,
जब तक दुनिया में होगा क़याम,
लिपटा रहूँगा मैं उसी से,
कि मसलूब में है अब्दी आराम।।

Verse 2

आह वह प्यारी सलीब,
जिसकी होती तहक़ीर,
है मुझको बेहद दिल अज़ीज़,
की खुदा ए महबूब और जलाली मसीह,
ने पहुँचाया उसे कैलवरी।।

Verse 3

मुझे प्यारी सलीब में जो लहू लुहान,
नज़र आती है ख़ूबसूरती,
की खुदा के यीशु ने कफ़्वारा दिया,
ताकि मिले मुझे ज़िंदगी।।

Verse 4

मैं उस प्यारी सलीब का रहूँ वफ़ादार,
सिपाही हमेशा ज़रूर,
जब तक मेरा मसीह ना करेगा मुझे,
अपने अब्दी जलाल में मंज़ूर।।

Aah Woh Pyaari Salib Chords : D Scale

Social Media

Aah Woh Pyaari Salib

Aah Woh Pyaari Salib Lyrics in Hindi Verse 1 आह वह प्यारी सलीब,मुझको दिख पढ़ती...

Read More