Home » Prakashman

Prakashman

prakashman

Verse 1

नूर है तू रौशन तझसे ज़मीं
तारीकियों का ज़ोर हम पे अब नहीं
साये में तेरे एक अजब सी है खुशी
कोई फ़िकर या खौफ़ कोई है नहीं

जीत की भाषा ये नयी, सब निराशा है गयी
अब हम अकेले हैं नहीं, तो मिलकर के सब उठो

प्रकाशमान, प्रकाशमान, प्रकाशमान हो
प्रकाशमान, प्रकाशमान, प्रकाशमान हो

Verse 2
कल की बातें हैं बातें पुरानी
नयी डगर है कूवत है आसमानी
बंदिशों में अब जीना है नहीं
येशु के रूह से हमें आज़ादी है मिली
देखो सवेरा हो गया, सब अँधेरा खो गया
नया नया सब हो गया, गर तुम भी तैयार हो

Bridge

हुई कामिल ज़िन्दगी तुझमें मेरे मसीह
अब ख्वाहिश बस यही हो सदा हम्द तेरी

Prakashman Lyrics and Chords

Leave a Reply

Your email address will not be published.